सालों बाद छलका दीपिका पादुकोण का दर्द, खोला रणबीर की काली करतूतों का पूरा कच्चा-चिट्ठा

सालों बाद छलका दीपिका पादुकोण का दर्द, खोला रणबीर की काली करतूतों का पूरा कच्चा-चिट्ठा

आज बॉलीवुड की टैलेंटेड एक्ट्रेस में से एक दीपिका पादुकोण का जन्मदिन है। आज वे 35 साल की हो गयी हैं। बॉलीवुड के अलावा उन्होने हॉलीवुड की भी कई फिल्मों में अपने अभिनय का जलवा बिखेर चुकी हैं और अपने हुस्न से कई लोगों को अपना दीवाना भी बना चुकी हैं। इंडस्ट्री में उनके काम की एक अलग अहमियत है और इसे काफी सराहा भी जाता है। हालांकि अगर उनकी पर्सनल लाइफ की बात करें तो फिलहाल जब से उनका ड्रग मामले में नाम आया है तबसे वे काफी परेशान भी दिख रहीं है। माना जा रहा है कि अभी वे इतनी डिस्टर्ब चल रही हैं कि इसका असर उनके काम पर भी पड़ता हुआ दिखाई दे रहा है। हालांकि यह पहली बार नहीं है जब उन्हें किसी परेशानी का सामना करना पड़ रहा हो इससे पहले जब उन्हें प्यार में धोखा मिला तब भी वे इतनी ही परेशान थी।

एक इंटरव्यू में उन्होंने अपने रिश्ते और उनमें आई समस्याओं पर खुलकर अपनी बात रखी। जैसा कि आप सब को पता ही होगा कि दीपिका पादुकोण फिलहाल रणवीर सिंह की पत्नी है। मगर रणवीर सिंह के मिलने से पहले दीपिका रणबीर कपूर संग प्यार में पड़ गयी थी। दोनों के प्यार के चर्चे काफी मशहूर थे, इतना ही नहीं दोनों आये दिन एक दूसरे के साथ देखे भी जाते थे। यह दोनों एक दूसरे के साथ लंबे समय तक रहे। इतना ही नहीं इस जोड़ी को लोग काफी पसंद करने लगे थे, कहा तो यह भी जाता है कि यह दोनों जल्द शादी भी करने वाले थे।

मगर एक दौर वो भी था जिस पल इस खूबसूरत रिश्ते ने दीपिका के विश्वास को तार – तार कर दिया था।इस सदमे को दीपिका काफी अर्से तक अपने ज़हन से निकाल नहीं पाई थी। कहा तो यह भी जाता है कि प्यार में मिले इस धोखे से उभरने के लिए दीपिका को महीनों लग गए थे।

दीपिका ने अपने इस साक्षात्कार में बताया था कि उसमें मुझे धोखा दिया तो जाहिर है इसके लिए उसने मुझसे माफी भी मांगी थी। मगर प्यार को ले कर जो मेरी परिभाषा है उसमें बस फिजिकल होना ही नहीं है। मेरे लिए भावनात्मक जुड़ाव भी मायने रखता है। मैंने कभी किसी रिश्ते में किसी भी व्यक्ति के साथ दगा नहीं किया ऐसे में अगर कोई मेरे साथ धोखा करता है तो फिर मैं उसके साथ क्यों रहूं ? इन सबसे तो अच्छा यही होगा ना कि मैं सिंगल रहूं और खुश रहूं।

दीपिका ने आगे बताया कि मुझे सबसे बुरा उस दौरान लगा था जब मैंने उसे रंगे हाथों पकड़ लिया था। मैंने जितना हो सका उतना इस रिश्ते को देने की सोची, मैं इसे बचाना चाहती थी। लेकिन बदले में मुझे कुछ नहीं मिल रहा था। मुझे इन सब को पीछे छोड़ने में काफी समय लग गया था हालांकि अब मैं संभल गयी हूँ। उनके अनुसार धोका किसी भी रिश्ते का अंत ही होता है।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *