PM Modi : मालदीव के मंत्रियों ने PM मोदी और भारत के खिलाफ विवादित टिप्पणियों का बढ़ाया दायरा

PM Modi : मालदीव के मंत्रियों ने PM मोदी और भारत के खिलाफ विवादित टिप्पणियों का बढ़ाया दायरा

PM Modi : भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हालिया लक्षद्वीप यात्रा के बाद, मालदीव के कुछ मंत्रियों ने भारत और PM Modi के खिलाफ सोशल मीडिया पर विवादित टिप्पणियां कीं। इन टिप्पणियों ने दोनों देशों के बीच तनाव को बढ़ा दिया है।

Maldives’ Foreign Minister Abdulla Shahid ने मोदी की लक्षद्वीप यात्रा को “भारतीय विस्तारवाद” का एक उदाहरण बताया। उन्होंने कहा कि PM Modiकी यात्रा से मालदीव की संप्रभुता को खतरा है। Tourism Minister Ahmed Siyam Mohamed ने मोदी की यात्रा के फोटो और वीडियो पर कमेंट करते हुए कहा कि मोदी “एक अजीब आदमी” हैं। उन्होंने कहा कि PM Modi भारत को मालदीव पर हावी करना चाहते हैं।

Sports Minister Ahmed Mahloof ने भी PM Modi की यात्रा की आलोचना की। उन्होंने कहा कि PM Modi भारत के हित में मालदीव का इस्तेमाल कर रहे हैं। इन टिप्पणियों पर भारत की प्रतिक्रिया तीखी रही है। भारत ने मालदीव के मंत्रियों की टिप्पणियों को “अशोभनीय” बताया है। भारत ने कहा है कि मालदीव के मंत्रियों को भारत के साथ अपने संबंधों के बारे में अधिक सोचना चाहिए।

Maldives’ President Ibrahim Mohamed Solih ने इन टिप्पणियों के लिए अपने मंत्रियों से माफी मांगी है। सोलिह ने कहा कि इन टिप्पणियों से दोनों देशों के बीच संबंधों को नुकसान हुआ है।

Maldives-India Relations

मालदीव और भारत के बीच लंबे समय से घनिष्ठ संबंध हैं। दोनों देश एक दूसरे के करीबी पड़ोसी हैं। भारत मालदीव का सबसे बड़ा व्यापारिक और विकास भागीदार है।

हालांकि, हाल के वर्षों में मालदीव में भारत विरोधी भावनाएं बढ़ रही हैं। ऐसा माना जाता है कि यह चीन के प्रभाव में मालदीव की सरकार के बदलाव के कारण है।

PM Modi Maldives’ China Tilt

मालदीव की वर्तमान सरकार चीन के करीब आ रही है। मालदीव ने हाल ही में चीन से चीन-मालदीव फ्रीडम और कॉरपोरेशन इकोनॉमिक ज़ोन (CMFCEZ) नामक एक विशेष आर्थिक क्षेत्र बनाने के लिए एक समझौता किया है।

PM Modi
PM Modi

इस समझौते से मालदीव में चीन का प्रभाव बढ़ने की संभावना है। इससे भारत और मालदीव के बीच तनाव और बढ़ सकता है।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हालिया लक्षद्वीप यात्रा के बाद, मालदीव के कुछ मंत्रियों ने भारत और मोदी के खिलाफ सोशल मीडिया पर विवादित टिप्पणियां कीं। इन टिप्पणियों ने दोनों देशों के बीच तनाव को बढ़ा दिया है।

मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद ने मोदी की लक्षद्वीप यात्रा को “भारतीय विस्तारवाद” का एक उदाहरण बताया। उन्होंने कहा कि PM Modi की यात्रा से मालदीव की संप्रभुता को खतरा है।

पर्यटन मंत्री अहमद सियम मोहम्मद ने PM Modi की यात्रा के फोटो और वीडियो पर कमेंट करते हुए कहा कि मोदी “एक अजीब आदमी” हैं। उन्होंने कहा कि मोदी भारत को मालदीव पर हावी करना चाहते हैं।

खेल मंत्री अहमद महलूफ ने भी PM Modi की यात्रा की आलोचना की। उन्होंने कहा कि मोदी भारत के हित में मालदीव का इस्तेमाल कर रहे हैं।

इन टिप्पणियों पर भारत की प्रतिक्रिया तीखी रही है। भारत ने मालदीव के मंत्रियों की टिप्पणियों को “अशोभनीय” बताया है। भारत ने कहा है कि मालदीव के मंत्रियों को भारत के साथ अपने संबंधों के बारे में अधिक सोचना चाहिए।

मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह ने इन टिप्पणियों के लिए अपने मंत्रियों से माफी मांगी है। सोलिह ने कहा कि इन टिप्पणियों से दोनों देशों के बीच संबंधों को नुकसान हुआ है।

मालदीव-भारत संबंध

मालदीव और भारत के बीच लंबे समय से घनिष्ठ संबंध हैं। दोनों देश एक दूसरे के करीबी पड़ोसी हैं। भारत मालदीव का सबसे बड़ा व्यापारिक और विकास भागीदार है।

हालांकि, हाल के वर्षों में मालदीव में भारत विरोधी भावनाएं बढ़ रही हैं। ऐसा माना जाता है कि यह चीन के प्रभाव में मालदीव की सरकार के बदलाव के कारण है।

मालदीव का चीन के करीब झुकाव

मालदीव की वर्तमान सरकार चीन के करीब आ रही है। मालदीव ने हाल ही में चीन से चीन-मालदीव फ्रीडम और कॉरपोरेशन इकोनॉमिक ज़ोन (CMFCEZ) नामक एक विशेष आर्थिक क्षेत्र बनाने के लिए एक समझौता किया है।

PM Modi
PM Modi

इस समझौते से मालदीव में चीन का प्रभाव बढ़ने की संभावना है। इससे भारत और मालदीव के बीच तनाव और बढ़ सकता है।

मालदीव के मंत्रियों की विवादित टिप्पणियों से भारत और मालदीव के बीच संबंधों में तनाव बढ़ गया है। इन टिप्पणियों ने दोनों देशों के बीच विश्वास को भी कमजोर किया है।

यह देखना बाकी है कि भारत और मालदीव इन टिप्पणियों के बाद अपने संबंधों को कैसे सुधारते हैं।

मालदीव के मंत्रियों की टिप्पणियों के परिणाम

मालदीव के मंत्रियों की टिप्पणियों के कई परिणाम हुए हैं। इनमें से कुछ परिणाम निम्नलिखित हैं: भारत और मालदीव के बीच संबंधों में तनाव बढ़ गया है। भारत ने मालदीव के मंत्रियों की टिप्पणियों की कड़ी निंदा की है। मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह ने अपने मंत्रियों से माफी मांगी है।

मालदीव के भविष्य के संबंधों पर प्रभाव

मालदीव के मंत्रियों की टिप्पणियों का मालदीव के भविष्य के संबंधों पर प्रभाव पड़ सकता है। यदि भारत और मालदीव के बीच तनाव बढ़ता है, तो इससे मालदीव को आर्थिक और सुरक्षा संबंधों में नुकसान हो सकता है। इसके अलावा, चीन का मालदीव पर प्रभाव बढ़ सकता है।

यह भी पढ़े:

Lakshadweep MP : पीएम नरेंद्र मोदी की एक चाल ने मालदीव की बोलती कर दी बंद !

PM Lakshadweep News : मोदी के लक्षद्वीप यात्रा के बाद बॉलीवुड में चर्चा का विषय क्यों बना Maldives?

Esha Gupta : लक्षद्वीप के समंदर में मशहूर एक्ट्रेस ईशा गुप्ता ने लगाई डुबकी, बोलीं- ये जादू..

Nency Saliya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *