Boycott Maldives : PM Modi की लक्षद्वीप यात्रा पर बोलीं Meenakshi Lekhi, कहा- उनकी यात्रा ने बहुत…

Boycott Maldives : PM Modi की लक्षद्वीप यात्रा पर बोलीं Meenakshi Lekhi, कहा- उनकी यात्रा ने बहुत…

Boycott Maldives : भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में लक्षद्वीप की यात्रा की। इस यात्रा के बाद, मालदीव के कुछ मंत्रियों ने भारत और मोदी के खिलाफ सोशल मीडिया पर विवादित टिप्पणियां कीं। इन टिप्पणियों ने दोनों देशों के बीच तनाव को बढ़ा दिया है।

Boycott Maldives के मंत्रियों की टिप्पणियों पर Meenakshi Lekhi का बयान

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सांसद मीनाक्षी लेखी ने मालदीव के मंत्रियों की टिप्पणियों पर एक बयान जारी किया है। लेखी ने कहा कि मालदीव के मंत्रियों की टिप्पणियां “भारत के सम्मान और संप्रभुता के लिए अपमानजनक” हैं। उन्होंने कहा कि मालदीव के मंत्रियों को अपनी टिप्पणियों के लिए माफी मांगनी चाहिए।

लेखी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की लक्षद्वीप यात्रा एक ऐतिहासिक यात्रा थी। उन्होंने कहा कि इस यात्रा से लक्षद्वीप के विकास को बढ़ावा मिलेगा। लेखी ने कहा कि मालदीव के मंत्रियों की टिप्पणियां भारत के विकास के प्रयासों को रोकने की कोशिश है।

लेखी ने कहा कि भारत ने हमेशा मालदीव के साथ अच्छे संबंध बनाए रखने की कोशिश की है। उन्होंने कहा कि भारत ने मालदीव को आर्थिक और विकास सहायता प्रदान की है। लेखी ने कहा कि मालदीव के मंत्रियों को भारत के साथ अपने संबंधों को सुधारने के लिए काम करना चाहिए।

Boycott Maldives
Boycott Maldives

मीनाक्षी लेखी की टिप्पणियों का महत्व

मीनाक्षी लेखी का बयान Boycott Maldives के मंत्रियों की टिप्पणियों के बाद भारत की प्रतिक्रिया का प्रतिनिधित्व करता है। लेखी ने स्पष्ट किया है कि भारत मालदीव के साथ अपने संबंधों को महत्व देता है, लेकिन मालदीव के मंत्रियों की टिप्पणियां स्वीकार्य नहीं हैं।

लेखी की टिप्पणियों का Boycott Maldives के भीतर भी प्रभाव पड़ सकता है। लेखी की टिप्पणियों से मालदीव के लोगों को पता चल सकता है कि भारत मालदीव के साथ अपने संबंधों को मजबूत करना चाहता है। इससे मालदीव के लोगों में भारत के प्रति सहानुभूति बढ़ सकती है।

लेखी ने कहा कि मोदी की यात्रा लक्षद्वीप के लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण उपलब्धि थी। उन्होंने कहा कि मोदी ने लक्षद्वीप के लोगों को उनके अधिकारों का एहसास कराया और उन्हें भारत की मुख्यधारा में शामिल किया। लेखी ने कहा कि मोदी की यात्रा से लक्षद्वीप के विकास में भी तेजी आई है। उन्होंने कहा कि मोदी ने लक्षद्वीप के लिए कई महत्वपूर्ण घोषणाएं की हैं, जिनसे वहां के लोगों को काफी फायदा होगा।

लेखी ने कहा कि मोदी की यात्रा से भारत और मालदीव के बीच भी संबंधों में सुधार हुआ है। उन्होंने कहा कि मोदी की यात्रा ने मालदीव को यह एहसास कराया है कि भारत उसका सच्चा दोस्त है। लेखी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की लक्षद्वीप यात्रा एक ऐतिहासिक यात्रा थी। उन्होंने कहा कि इस यात्रा से भारत और लक्षद्वीप के बीच संबंधों में एक नया अध्याय शुरू हुआ है।

लेखी की प्रतिक्रिया के बाद, सोशल मीडिया पर कई लोगों ने उनकी तारीफ की। कई लोगों ने कहा कि लेखी ने मोदी की लक्षद्वीप यात्रा के महत्व को सही ढंग से समझा है। हालांकि, कुछ लोगों ने लेखी की प्रतिक्रिया की आलोचना भी की। कुछ लोगों ने कहा कि लेखी ने मोदी की यात्रा के बारे में केवल सकारात्मक पक्ष को ही देखा है। उन्होंने कहा कि मोदी की यात्रा से मालदीव में भारत विरोधी भावनाओं को बढ़ावा मिला है।

मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह ने मोदी की लक्षद्वीप यात्रा की आलोचना की थी। सोलिह ने कहा था कि मोदी की यात्रा से मालदीव की संप्रभुता को खतरा है। मालदीव के कुछ मंत्रियों ने भी मोदी की लक्षद्वीप यात्रा की आलोचना की थी। इन मंत्रियों ने कहा था कि मोदी भारत को मालदीव पर हावी करना चाहते हैं। भारत और मालदीव के बीच संबंधों में तनाव बढ़ने के बाद, भारत ने मालदीव के मंत्रियों की टिप्पणियों को “अशोभनीय” बताया था। भारत ने कहा था कि मालदीव के मंत्रियों को भारत के साथ अपने संबंधों के बारे में अधिक सोचना चाहिए।

Boycott Maldives के राष्ट्रपति सोलिह ने बाद में अपने मंत्रियों से माफी मांगी थी। सोलिह ने कहा था कि इन टिप्पणियों से दोनों देशों के बीच संबंधों को नुकसान हुआ है। मीनाक्षी लेखी ने कहा कि पीएम मोदी की लक्षद्वीप यात्रा ने मालदीव के राष्ट्रपति के मंत्रियों को भी झुकना पड़ा है। उन्होंने कहा कि मालदीव के मंत्री पहले लक्षद्वीप के लोगों को भारत आने से रोकने की कोशिश कर रहे थे। लेकिन, पीएम मोदी की यात्रा के बाद, मालदीव के राष्ट्रपति को अपने मंत्रियों को भारत जाने की अनुमति देनी पड़ी।

मीनाक्षी लेखी ने कहा कि पीएम मोदी की लक्षद्वीप यात्रा से भारत और मालदीव के बीच संबंधों में सुधार हुआ है। उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच संबंधों को और मजबूत करने के लिए दोनों देशों को मिलकर काम करना चाहिए।

Boycott Maldives
Boycott Maldives

मीनाक्षी लेखी का बयान

मीनाक्षी लेखी ने एक बयान में कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लक्षद्वीप यात्रा से लक्षद्वीप के लोगों को बहुत लाभ हुआ है। उन्होंने लक्षद्वीप के विकास के लिए कई महत्वपूर्ण घोषणाएं की हैं। इन घोषणाओं से लक्षद्वीप के लोगों का जीवन स्तर बेहतर होगा।”

लेखी ने कहा, “प्रधानमंत्री की यात्रा ने मालदीव के राष्ट्रपति के मंत्रियों को भी झुकना पड़ा है। पहले, मालदीव के मंत्री लक्षद्वीप के लोगों को भारत आने से रोकने की कोशिश कर रहे थे। लेकिन, प्रधानमंत्री की यात्रा के बाद, मालदीव के राष्ट्रपति को अपने मंत्रियों को भारत जाने की अनुमति देनी पड़ी।” लेखी ने कहा, “प्रधानमंत्री की लक्षद्वीप यात्रा से भारत और मालदीव के बीच संबंधों में सुधार हुआ है। दोनों देशों के बीच संबंधों को और मजबूत करने के लिए दोनों देशों को मिलकर काम करना चाहिए।”

विपक्ष की प्रतिक्रिया

प्रधानमंत्री मोदी की लक्षद्वीप यात्रा पर विपक्ष ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी। कांग्रेस ने कहा कि प्रधानमंत्री की यात्रा से मालदीव के राष्ट्रपति को झुकना पड़ा है। कांग्रेस ने कहा कि मालदीव के राष्ट्रपति को अपने मंत्रियों को भारत जाने की अनुमति देनी पड़ी है।

कांग्रेस ने कहा कि प्रधानमंत्री की यात्रा से भारत और मालदीव के बीच संबंधों में सुधार हुआ है। लेकिन, कांग्रेस ने कहा कि इस संबंध को और मजबूत करने के लिए दोनों देशों को मिलकर काम करना चाहिए।

यह भी पढ़े :

Maldives Controversy : MEA ने मालदीव विवाद में उठाया कदम, PM मोदी पर किया था कमेंट !

PM Modi : मालदीव के मंत्रियों ने PM मोदी और भारत के खिलाफ विवादित टिप्पणियों का बढ़ाया दायरा

Lakshadweep MP : पीएम नरेंद्र मोदी की एक चाल ने मालदीव की बोलती कर दी बंद !

PM Lakshadweep News : मोदी के लक्षद्वीप यात्रा के बाद बॉलीवुड में चर्चा का विषय क्यों बना Maldives?

Nency Saliya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *